1 Mar
New Hindi quotes admin

*जिस्म का बोझ उठाए हुए चलते रहिए*
*धूप में बर्फ़ की मानिंद पिघलते रहिए*

*ये तबस्सुम तो है चेहरों की सजावट के लिए*
*वर्ना एहसास वो दोज़ख़ है कि जलते रहिए*

*अब थकन पाँव की ज़ंजीर बनी जाती है*
*राह का ख़ौफ़ ये कहता है कि चलते रहिए*

*ज़िंदगी भीक भी देती है तो क़ीमत ले कर*
*रोज़ फ़रियाद का अंदाज़ बदलते रहिए*



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *